Home / Hindi Shayari / ढूँढते हैं वही आँखें.. / Dhundhte hain wahi aankhen..

ढूँढते हैं वही आँखें.. / Dhundhte hain wahi aankhen..

/
/
/
139 Views

Hindi Poetry in Hindi

ढूँढते हैं वही आँखें हर किसी की आँखों में
जो देखीं थी उस रात..किसी ख्वाब में
नही देखा कोई और ख्वाब तबसे
इन आँखों ने..रातों में

थी वो पलकें..या चादर रात की ढाकें थी सागर को
जिसकी चाहत की बस एक बूँद..भर गयी मन की गगर को
उनकी ख्वाइश का गीलापन है रहा मेरी आँखों में
कहाँ ढूंढूं मैं वो आँखें..जो बस गयी आँखों में

शायद नज़र आयें वो..इसी उम्मीद में
अब देखते हैं हर ख्वाब रातों में
ढूँढते हैं वही आँखें हर किसी की आँखों में..

 

Hindi Poetry in English

Dhundhte hain wahi aankhen har kisi ki aankhon mein
jo dekhi thi uss raat..kisi khwaab mein
nahi dekha koi aur khwaab tabse
inn aankhon ne..raaton mein

thi wo palkhen..ya chaadar raat ki dhaaken thi sagar ko
jiski chaahat ki bus ek boond..bhar gayi mann ki gagar ko
unki khwaaish ka geelapan hai raha meri aankhon mein
kaha dhundhun main wo aankhen..jo bus gayi aankhon mein

shayad nazar aaye wo..isi ummeed mein
abb dekhte hain har khwaab raaton mein
dhundhte hain wahi aankhen har kisi ki aankhon mein..

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *