Home / Hindi Shayari / 2 Line Hindi Shayari / बहुत कम कम देखता है.. / Bahut kam kam dekhta hai..

बहुत कम कम देखता है.. / Bahut kam kam dekhta hai..

/
/
/
44 Views

Hindi Shayari in Hindi

बहुत कम कम देखता है वो अब खुद को
उसे देखने वालों की कतार..लगातार बढ़ रही..

आज कल औरों से ही जान लेता वो अपना हाल
उसके घर के आईने में भी धूल जम रही..

कैसे ना होगी उन खेतों की ज़मीन हरी भरी
जिन खेतों की रखवाली..खुद जानकी कर रही..

उठा देना नींद से..उन आँखों को वक़्त पर
जिन आँखों में ख्वाब बन तू रात भर रही..

तय है उन घरों का झुलस जाना एक दिन
जिन घरों की नीव ही बारूद पर धरी..

 

Hindi Shayari in English

Bahut kam kam dekhta hai wo abb khud ko
use dekhne waalon ki kataar..lagataar badh rahi..

aaj kal auron se hi jaan leta wo apna haal
uske ghar ke aaine mein bhi dhool jam rahi..

kaise na hogi unn kheton ki zameen hari bhari
jin kheton ki rakhwali..khud jaanki kar rahi..

utha dena neend se..unn aankhon ko waqt pr
jin aankhon mein khwaab ban tu raat bhar rahi..

tay hai unn gharon ka jhulas jaana ek din
jin gharon ki neev hi barood pr dhari..

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *