Author: Anupama

Home /

Hindi Shayari in Hindi आपकी आँखें खुलें..तो वो भी नींद से जागे सुबह आपकी पलकों की चादर ओढ़ सो रही मुस्कुराकर अपना हर दिन शुरू किजिये हुज़ूर…

Hindi Shayari in Hindi बारूद बिछा रखीं हैं बागबाँ ने गुलिस्ताँ में यहाँ फूटे जो बीज..मौत का मातम देंगे सींच रहा हर पौधे को..नफ़रतों से अपनी पेड़…

Hindi Shayari in Hindi यूँ नीलाम हुआ हर ख़्वाब..बोली लगी हर तमन्ना की देखिए हर कोई यहाँ..इस नुमाइश में आ गया जिसकी चाहत के अश्कों में..भीगति रही…

1 2 9