Author: Anupama

Home / (Page 2)

Hindi Shayari /Poetry  तुझे लिखती भी हूँ रोज़..मिटाती भी हूँ रोज़ इस तरह..इन दिनों..अपने दिन मैं..गुज़ारती हूँ रोज़ रूह छिल सी जाती..जब इसमें तुझको गोदती तेरी चाहत…

Sad Shayari in Hindi होती मैं उस जैसी..या उसे मुझ जैसा बनाया होता चाहता वो मुझे..मुझे बस ऐसा बनाया होता मेरे ख़ुदा, मुझ पर तू..करता बस इतनी…

Romantic Shayari in Hindi मेरे पास होता है तेरे साथ भी..तेरे जाने के बाद भी तेरे एहसास को अब्ब तुझसे ज़्यादा चाहती हूँ.. Romantic Shayari in English…