Home / Hindi Shayari / Hindi Shayari – आइने से भी हम.. / Aaine se bhi hum..

Hindi Shayari – आइने से भी हम.. / Aaine se bhi hum..

/
/
/
28 Views

Hindi Shayari in Hindi

बदनामियों की शिक़ायतें या रुसवाई का गिला करें
आइने से भी हम..नज़रें झुकाकर मिला करें

हैं रोशनी की मीत ये परछाईयाँ मेरी
ना देंगी मेरा साथ..होगी जब रात ये गहरी
टूटा हर वो तारा..जिस से भी रास्ता पूछा
कोई कब साथ था मेरे..जो तन्हाई का गीला करें

आइने से भी हम..नज़रें झुकाकर मिला करें..

अच्छा हुआ जो कोई काँटा चुभा पाओं में
पता तो चला..सिर्फ़ काँटे बिछे राहों में
एक अपने मॅन को ही ना अपना बना सके हुज़ूर
फिर क्या किसी और की..बे-वफ़ाई का गीला करें

आइने से भी हम..नज़रें झुकाकर मिला करें..

बदनामियों की शिक़ायतें या रुसवाई का गीला करें
आइने से भी हम..नज़रें झुकाकर मिला करें

 

Hindi Shayari in English

Badnaamiyon ki shikaayaten ya ruswaai ka gila karen
aaine se bhi hum..nazren jhukakar mila karen

Hain roshni ki meet ye parchhaiyaan meri
na dengi mera saath..hogi jab raat ye gehri
toota har wo taara..jis se bhi raasta puchha
koi kab saath tha mere..jo tanhaai ka gila karen

Aaine se bhi hum..nazren jhukakar mila karen..

Achha hua jo koi kaanta chubha paaun mein
pata to chala..sirf kaante bichhe raahon mein
ek apne mann ko hi na apna bana sake huzoor
phir kya kisi aur ki..be-wafaai ka gila karen

Aaine se bhi hum..nazren jhukakar mila karen..

Badnaamiyon ki shikaayaten ya ruswaai ka gila karen
aaine se bhi hum..nazren jhukakar mila karen

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *