Home / Hindi Shayari / हो सकता है.. / Ho sakta hai..

हो सकता है.. / Ho sakta hai..

/
/
/
113 Views

Hindi Poetry in Hindi

हो सकता है वो इस जनम में भी मेरा ना हो सके
ख़ुदको जोड़कर मुझसे..मुझे पूरा ना कर सके

उससे कोई शिक़ायत भी करूँ तो कैसे
गर मैं अधूरी हूँ..तो वो भी कहाँ पूरा है
गिला अब मुझे उससे कोई नहीं..

मगर इस बार मेरा वजूद अधूरा नही कहलाएगा
चाहे इस बार भी वो मेरे घर..बारात नहीं लाएगा

रहीं होंगी इसमें भी उसकी कुछ मजबूरियाँ
वरना..वो भी कब चाहता था ये दूरियाँ

उसमें गर सब्र है..तो सब्र मुझमें भी है
कुछ और जनमों का इंतज़ार सही..
गीला अब मुझे उससे कोई नहीं..

 

Hindi Poetry in English

Ho sakta hai wo iss janam mein bhi mera na ho sake
khudko jodkar mujhse..mujhe pura na kar sake

usse koi shikaayat bhi karun to kaise
gar main adhoori hun..to wo bhi kaha pura hai
gila abb mujhe usse koi nahi..

magar iss baar mera wajood adhoora nahi kehlayega
chaahe iss baar bhi wo mere ghar..baarat nahi laayega

rahin hongi ismein bhi uski kuch majburiyaan
warna..wo bhi kab chahta tha ye dooriyaan

usme gar sabr hai..to sabr mujhme bhi hai
kuch aur janamon ka intezaar sahi..
gila abb mujhe usse koi nahi..

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *