Home / Romantic Shayari / वो मेरा तब भी था जब उसे जानती ना थी / Wo mera tab bhi tha jab use jaanti naa thi

वो मेरा तब भी था जब उसे जानती ना थी / Wo mera tab bhi tha jab use jaanti naa thi

/
/
/
56 Views

 

वो मेरा तब भी था जब उसे जानती ना थी
जब उसका नाम तक नही पता था
बस ख़यालों की गुफ़ाओं में उसे ढूँढा करती थी
की काश उसका कोई निशान..कोई निशानी ही मिल जाए
आज अपने उसी ख़याल का चेहरा देख बड़ा इतरा रही हूँ
कभी मुस्कुरा..तो कभी शर्मा रही हूँ
आज उसे जानती भी हूँ..पहचानती भी हूँ
नही जानती तो बस इतना..की किसी अपने को अपना कैसे कहा जाए..

 

Wo mera tab bhi tha jab use jaanti naa thi
jab uska naam tak nahi pata tha
bus khayaalon ki gufaaon mein use dhoondha karti thi
ke kaash uska koi nishaan..koi nishaani hi mil jaaye
aaj apne usi khayaal ka chehra dekh bada itra rahi hun
kabhi muskura..to kabhi sharma rahi hun
aaj use jaanti bhi hun..pehchaanti bhi hun
nahi jaanti to bus itna..ke kisi apne ko apna kaise kaha jaaye..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *