Home / Hindi Shayari / Tujhe likhti bhi hun roz.. Hindi Shayari

Tujhe likhti bhi hun roz.. Hindi Shayari

/
/
/
87 Views

Hindi Shayari /Poetry 

तुझे लिखती भी हूँ रोज़..मिटाती भी हूँ रोज़
इस तरह..इन दिनों..अपने दिन मैं..गुज़ारती हूँ रोज़

रूह छिल सी जाती..जब इसमें तुझको गोदती
तेरी चाहत कि हल्दी इस पर फिर..लगाती हूँ रोज़
इस तरह इन दिनों अपने दिन मैं गुज़ारती हूँ रोज़..

भिगो देती खुशी मेरी..मेरी ही आँख का पानी
तेरे एहसास की गर्मी में इसे..सुखती हूँ रोज़
इस तरह इन दिनों अपने दिन मैं गुज़ारती हूँ रोज़..

अक्सर सोचती हूँ..मैं क्या सोचती हूँ
ख़ुद ही खो देती ख़ुद को
फिर ख़ुद ही खोजती हूँ
मुझे मिल जाउ ‘मैं’ हर दफ़ा..शायद इसीलिए
अपने आप को काग़ज़ पर मैं..उतारती हूँ रोज़
इस तरह इन दिनों अपने दिन मैं गुज़ारती हूँ रोज़..

तुझे लिखती भी हूँ रोज़..मिटाती भी हूँ रोज़
इस तरह..इन दिनों..अपने दिन मैं..गुज़ारती हूँ रोज़

Hindi Shayari/Poetry in English

Tujhe likhti bhi hun roz..mitati bhi hun roz
iss tarah..inn dino..apne din main..guzarti hun roz

Rooh chhil si jaati..jab isme tujhko godati
teri chahat ki haldi ispr phir..lagati hun roz
Iss tarah inn dino apne din main guzarti hun roz..

Bhigo deti khushi meri..meri hi aankh ka paani
tere ehsaas ki garmi mein ise..sukhati hun roz
Iss tarah inn dino apne din main guzarti hun roz..

Aksar sochti hun..main kya sochti hun
khud hi kho deti khud ko
phir khud hi khojti hun
Mujhe mil jaaun ‘main’ har dafaa..shayad isiliye
apne aap ko kaagaz pr main..utarti hun roz
Iss tarah inn dino apne din main guzarti hun roz..

Tujhe likhti bhi hun roz..mitati bhi hun roz
iss tarah..inn dino..apne din main..guzarti hun roz

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *